जानें क्या है महामारी रोग अधिनियम1897, जिसमें अध्यादेश के जरिये किया गया है संशोधन

गौरव  सिंह 30th April 2020
गौरव सिंह

पूरी दुनिया कोविड19 के महामारी से त्रस्त है। भारत में भी इसका व्यापक असर है, कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए भारत सरकार ने पिछले 25 मार्च से पूरे भारत में लॉक डाउन कर दिया है। कोरोना से पीड़ित मरीजों की जांच के लिए स्वास्थ्यकर्मी दिन रात एक किये हुए है लेकिन हाल के दिनों में डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार की घटना बढ़ गई है। स्वास्थ्य सेवाओं के सदस्यों पर उपद्रवियों द्वारा हमला किया जा रहा है, जिससे उन्हें अपने कर्तव्यों को पूरा करने में बाधा उत्पन्न होती है। मेडिकल समुदाय के सदस्य, यहां तक ​​कि वे लगातार चौबीसों घंटे कर्तव्य में लगे करते रहते हैं और मानव जीवन को बचाते हैं, दुर्भाग्य से कोरोना पॉजीटव के मरीजों, वायरस के वाहक के रूप में जाने जाते हैं उसके द्वारा डॉक्टरों पर हमले और दुर्व्यवहार की घटना बढ़ गये हैं। ऐसी स्थिति में चिकित्सा समुदाय को अपने कर्तव्यों का पालन करने और उनके दृढ़ संकल्प को बनाए रखने से रोकती है, जो कि अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य संकट के इस समय में आवश्यकता है। इन  सब घटनाओं के बावजूद स्वास्थ्य सेवाकर्मी बिना किसी भेदभाव के सेवा में तत्पर है।   कोविड -19 यानी कोरोना महामारी ने एक अनोखी स्थिति बनाई है जिसमें शामिल होने के लिए काम कर रहे स्वास्थ्य कर्मियों का उत्पीड़न बीमारी का प्रसार सभी मोर्चों पर हो रहा है। डॉक्टर जब कोरोना के पीड़ित को चिन्हित करने गये तो उनपर हमला किया गया, इलाज के दौरान उनके साथ बदतमीजी की गई। उन पर थूका गया, नर्सों के साथ अश्लील व्यवहार किया गया।

उपरोक्त के मद्देनजर, 22 अप्रैल 2020 को हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक ने ने महामारी के दौरान हिंसा के दौरान अपने रहने / काम करने वाले परिसर सहित स्वास्थ्य सेवा कर्मियों और संपत्ति की सुरक्षा के लिए महामारी रोग अधिनियम, 1897 में संशोधन के लिए एक अध्यादेश को मंजूरी दी है। राष्ट्रपति ने अध्यादेश के प्रचार के लिए अपनी सहमति दे दी है। अध्यादेश, हिंसा के ऐसे कृत्यों को संज्ञेय और गैर-जमानती अपराध बनाने के लिए प्रदान करता है। अध्यादेश से, यहां यह उल्लेख करना उचित है कि जो कोई स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के खिलाफ हिंसा के एक अधिनियम के आयोग का गठन करता है या उसका पालन करता है या किसी संपत्ति को नुकसान पहुंचाता है या नुकसान पहुंचाता है, उसे किसी ऐसे शब्द के लिए कारावास की सजा दी जाएगी जो कि नहीं होगी तीन महीने से कम, लेकिन जो पांच साल तक और जुर्माना के साथ दो लाख रुपये तक बढ़ सकता है।

जानें अध्यादेश के बाद महामारी अधिनियम 1897 में क्या हुआ परिवर्तन, कितने साल की हो सकती है सजा

जो कोई भी स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के खिलाफ हिंसा का कार्य करता है, ऐसे व्यक्ति को भारतीय दंड संहिता की धारा 320 में परिभाषित किया गया है, जिसके कारण छह महीने से कम की सजा नहीं होगी, लेकिन उसे बढ़ाया जा सकता है सात साल और जुर्माने के साथ, जो एक लाख रुपए से कम नहीं होगा, जो पांच लाख रुपए तक हो सकता है।

धारा 3 की उपधारा (2) या उपधारा (3) के तहत दर्ज किसी भी मामले की जांच पुलिस अधिकारी द्वारा निरीक्षक के पद से नीचे नहीं की जाएगी। प्रथम सूचना रिपोर्ट के पंजीकरण की तारीख के लिए एक मामले की जांच तीस दिनों की अवधि के भीतर पूरी की जाएगी और परीक्षण को एक वर्ष में पूरा किया जाना है, जब तक कि अदालत द्वारा लिखित रूप में दर्ज किए जाने के कारण विस्तारित न हो।

धारा 3 बी के तहत अपराध की संरचना के बावजूद, किसी भी संपत्ति को हुए नुकसान या नुकसान के मामले में, क्षतिपूर्ति की गई क्षतिपूर्ति क्षतिग्रस्त संपत्ति के उचित बाजार मूल्य की दो बार या अदालत द्वारा निर्धारित नुकसान के रूप में हो सकती है। उपधारा (1) और (2) के तहत दिए गए मुआवजे का भुगतान करने में विफलता पर, ऐसी राशि को द लैंड रेवेन्यू रिकवरी अधिनियम, 1890 के बकाया के रूप में वसूल किया जाएगा।

स्वास्थ्यकर्मियों के साथ हिंसा या दुर्व्यवहार करने वालों की अब खैर नहीं

अध्यादेश में परिभाषित हिंसा में ऐसे स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के रहने या काम करने की स्थिति को प्रभावित करने वाले उत्पीड़न शामिल होंगे और उन्हें अपने कर्तव्यों, हानि, चोट, चोट, धमकी या ऐसे स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के जीवन के लिए खतरे से बचाने के लिए परिसर के भीतर भी शामिल होगा। एक नैदानिक ​​स्थापना या अन्यथा और शारीरिक चोट और संपत्ति को नुकसान। हेल्थकेयर सेवा कर्मियों में सार्वजनिक और नैदानिक ​​स्वास्थ्य सेवा प्रदाता जैसे डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल कार्यकर्ता और सामुदायिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता शामिल हैं; किसी अन्य व्यक्ति ने इस बीमारी के प्रकोप को रोकने या इसके प्रसार को रोकने के लिए अधिनियम के तहत अधिकार प्राप्त किया; और आधिकारिक राजपत्र में अधिसूचना द्वारा राज्य सरकार द्वारा घोषित किया गया कोई भी व्यक्ति 30 दिनों की अवधि में निरीक्षक रैंक के एक अधिकारी द्वारा अपराधों की जांच की जाएगी, और जब तक कि लिखित रूप में दर्ज किए जाने के कारणों के लिए अदालत द्वारा विस्तारित न किया जाए, तब तक मुकदमा एक वर्ष में पूरा किया जाना चाहिए। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कोविड-19 महामारी से लड़ रहे स्वास्थ्यकर्मियों पर हिंसा के कृत्यों को संज्ञेय और गैर-जमानती अपराध बनाने वाले एक अध्यादेश को अपनी मंजूरी दे दी। महामारी रोग अधिनियम, 1897 में संशोधन करने वाला इस अध्यादेश में स्वास्थ्यकर्मियों को पहुंचे जख्म तथा संपत्ति को नुकसान पहुंचाने या उसे नष्ट करने के लिए मुआवजे की व्यवस्था की गयी है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘राष्ट्रपति ने इस अध्यादेश की उद्घोषणा के लिए अपनी मंजूरी दे दी।

स्वास्थ्यकर्मियों की सुरक्षा और दोषियों पर कड़ी सजा का प्रावधान

महामारी अधिनियम 1897 में किये गये संसोधन पर लाये गये अध्यादेश के मुताबिक इसमें जोड़ी गयी एक नई धारा ‘2A’, स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के खिलाफ हिंसा, दुराचार और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने को निषेध करती है। धारा 3 (2) के तहत, एक स्वास्थ्य सेवा कर्मी के खिलाफ हिंसा की गतिविधि करने वाले व्यक्ति को कम से कम तीन  महीने की सजा का प्रावधान है। हालांकि इस सजा को पांच वर्ष तक कैद तक बढाया जा सकता है और पचास हजार रूपये से लेकर दो लाख  रुपए तक जुर्माने की सज़ा दी जा सकती है। ध्यान में रहे कि यदि स्वास्थ्य सेवा कर्मी को आईपीसी की धारा 320  के मायनों में गंभीर चोट/जख्म पहुंचाने पर दोषी को छह माह से लेकर सात साल तक कैद की सजा होगी और एक लाख से लेकर पांच लाख रूपये तक उस पर जुर्माना लगेगा। अध्यादेश के मुताबिक [धारा 3E (1)], सजा के अतिरिक्त एक अपराधी को पीड़ित को मुआवजे का भुगतान भी (अदालत द्वारा तय किया गया) करना होगा। इसके अलावा, संपत्ति के नुकसान के मामले में, मुआवजा नुकसानग्रस्त संपत्ति के बाज़ार मूल्य का दोगुना होगा [धारा 3E (2)]।

स्वास्थ्य कर्मी कोविड -19 के प्रसार से लड़ने में हमारे अग्रिम पंक्ति के सैनिक हैं। दूसरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उन्होंने अपनी जान जोखिम में डाल दी। वे इस समय हमारे सर्वोच्च सम्मान और प्रोत्साहन के बजाय उत्पीड़न या हिंसा के अधीन हैं। यह आशा की जाती है कि इस अध्यादेश का स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के समुदाय में विश्वास को प्रभावित करने का प्रभाव पड़ेगा, ताकि वे वर्तमान कोविद -19 के प्रकोप के दौरान देखी जा रही अत्यंत कठिन परिस्थितियों में अपने महान कर्तव्यों के माध्यम से मानव जाति की सेवा में योगदान दे सकें।

(लेखक कानून मामले के जानकार हैं एवं सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया में एडवोकेट हैं।)