क्रिकेट का विस्तारवादी कदम…

भले ही दुनिया में क्रिकेट सबसे ज्यादा नहीं खेला जाने वाला खेल हो…लेकिन जिस तेजी से इसकी लोकप्रियता बढ़ रही है, वह दिन दूर नहीं जब क्रिकेट सर्वाधिक खेला जाने वाला खेल बन जाए। आखिर ऐसा हो भी क्यों न…जब कोई खेल खिलाड़ी की महत्ता और देश के सम्मान के साथ जोड़कर देखे जाने के साथ रोजगार और आर्थिकी के खांचे में भी फिट बैठने लगे, तो उस वक्त वह खेल अपने प्रसिद्धी के पूर्व के सभी आंकड़ों के पार नई इबारत लिखने लगता है। ऐसा ही कुछ वर्तमान में क्रिकेट के खेल में देखने को मिल रहा है।

क्रिकेट की शीर्ष संस्था अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने भी खेल के विस्तार को लेकर नए देशों को इससे जोड़ने की मुहिम छेड़ रखी है। इस क्रम में आईसीसी वर्ल्ड क्रिकेट लीग चैम्पियनशिप में नई टीमों को खेलने का मौका दिया जाता है। इनमें जो टीमें शीर्ष तीन स्थान पर होती हैं उन्हें आईसीसी एसोसिएट्स का दर्ज देते हुए वनडे रैंकिंग में शामिल किया जाता है। इस दिशा में बीते जून माह में आईसीसी ने नेपाल, नीदरलैंड, स्कॉटलैंड और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के प्रदर्शन को 12 मौजूदा देशों के साथ वनडे रैंकिंग प्रक्रिया में स्थान दिया।

इस बाबत आईसीसी ने स्पष्ट भी किया है कि यह नई टीमें अब जो भी द्विपक्षीय वनडे मैच खेलेंगी, उन्हें रेटिंग गणना में शामिल किया जाएगा। नीदरलैंड ने पिछले साल आईसीसी वर्ल्डन क्रिकेट लीग चैंपियनशिप जीतकर वनडे दर्जा और 13 टीमों के वनडे लीग में जगह बनाई। वहीं, स्कॉटलैंड, नेपाल और यूएई ने आईसीसी वर्ल्डटकप क्वालीफायर 2018 में एसोसिएट देशों में शीर्ष तीन में रहने के कारण वनडे दर्जा हासिल किया। स्कॉटलैंड को 28 अंकों के साथ 13वीं रैंकिंग दी गई है। यूएई 18 अंकों के साथ 14वें स्थान पर, जबकि नीदरलैंड के 13 रेटिंग अंक हैं। फिलहाल नीदरलैंड और नेपाल को इस तालिका में जगह बनाने के लिए अभी चार मैच और खेलने होंगे।

वहीं, अगले माह अक्टूबर तक हांगकांग को भी इस रैंकिंग में शामिल किया जा सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि कुआलालम्पुर में खेले गए ‘एशिया कप क्वालीफ़ायर’ के मुकाबले में वनडे दर्जा प्राप्त टीम नेपाल को हांगकांग (जो वनडे रैंकिंग में शामिल नहीं है) ने हराकर एशिया कप में क्वालीफाई किया था। इस तरह क्रिकेट के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि आईसीसी ने किसी टीम (हांगकांग) को बिना दर्जे के ही उनके द्विपक्षीय मुकाबले के आंकड़ों को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में दर्ज किए जाने पर सहमति जताई। आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेविड रिचर्डसन ने कहा कि एशिया कप में हांगकांग के सभी मैचों को वनडे का दर्जा देने का आईसीसी बोर्ड ने सकारात्मक फैसला लिया है। वर्ष के शुरुआत में ही आईसीसी क्रिकेट विश्वकप क्वालिफायर की समीक्षा के साथ थी, इस निर्णय की शुरुआत हो गई थी।’

आईसीसी द्वारा एसोसिएट देशों को वनडे रैंकिंग का दर्जा देने की प्रक्रिया में तरीके स्पष्ट हैं।

  • पूर्ण सदस्य देशों के खिलाफ एकदिवसीय मैचों में दो जीत।
  • पूर्ण सदस्य देश के खिलाफ एक वनडे मैच में जीत और योग्यता का 60% से अधिक भी जीत लिया है अन्य साथियों की तुलना में मैच।

उदाहरणत: आयरलैंड ने विश्व कप-2007 में पाकिस्तान और बांग्लादेश को हराकर अर्हता प्राप्त की थी। वहीं,  नवीनतम प्रवेशी अफगानिस्तान ने 2014 के एशिया कप में बांग्लादेश को पटखनी देते हुए रैंकिंग में स्थान बनाया। जबकि नीदरलैंड और केन्या को भी मुख्य मेज पर सूचीबद्ध किया गया है, क्योंकि उन्हें पहले से स्थायी एकदिवसीय दर्जा हासिल था।

इससे पहले, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने अप्रैल-2018 में भी कुछ बड़े फैसले लिए थे। इनमें सबसे बड़ा फैसला 104 देशों को टी20 का दर्जा देना रहा। इस दौरान आईसीसी के सीईओ डेविड रिचर्डसन ने यह भी कहा था कि क्रिकेट के टी20 प्रारूप के लिए अब वैश्विक रैंकिंग प्रणाली शुरू की जाएगी। वर्तमान में, टी20 इंटरनेशनल का दर्जा केवल 18 देशों को प्राप्त है। जिनमें 12 पूर्ण सदस्य और स्कॉटलैंड, नीदरलैंड, हांगकांग, संयुक्त अरब अमीरात, ओमान और नेपाल एसोसिएट देश शामिल हैं।

(लेखक बहुभाषी संवाद समिति हिन्दुस्थान समाचार में चीफ सब-एडीटर के पद पर कार्यरत हैं)