31 दिसंबर तक कराये अपना फसल बीमा : सुशील कुमार

21st December 2017
कार्यशाला को संबोधित करते अधिकारी

देवघर स्थित सूचना भवन में जिला सहकारिता विभाग द्वारा एक दिवसीय कृषि कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एवं (पी0एम0एफ0बी0वाई) रब्बी 2017-18 से संबंधित सभी जानकारी पैक्स अध्यक्षों दी गई। बता दें कि सरकार के निर्देशानुसार प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अन्तर्गत फसलों की बीमा ईकाई स्तर पर किया जाना है; ताकि प्राकृतिक आपदाओं से ऊपज में आए कमी व अन्य अधिसूचित जोखिमों से फसलों को होने वाले नुकसान की भरपाई की जा सके। अधिकारियों ने बताया कि बीमा कराने की अंतिम तारिख 31 दिसंबर 2017 है इस बीच कोई भी किसान अपना फसल बीमा करा सकते हैं।इसके लिए उसे अपने फसल का बीमा प्रस्ताव पत्र को भरकर आवश्यक दस्तावेज व प्रीमियम सहित बीमा प्राथमिक कृषि सहकारी समिति (लैम्प्स/पैक्स), जिला केन्द्रीय सहकारी बैंक, व्यवसायिक बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, सामान्य सेवा केन्द्र, भारत सरकार की वेबसाईट www.agri-insurance.gov.in अथवा ईफको टोकियो के निकटतम कार्यालय के माध्यम से करा सकते हैं। आवश्यक दस्तावेजों के रूप में उन्हें अपने जमीन के रसीद, वंशावली, आधार संख्या एवं बैंक खाता की छायाप्रति आवेदन के साथ संलग्न करना आवश्यक है एवं सभी कागजात मुखिया या किसी अन्य सरकारी पदाधिकारी से सत्यापित होने चाहिये।  मौक पर जानकारी दी गई कि बीमा कराये गये फसलों का किसी प्रकार का नुकसान होने पर 48 घंटे के अंदर इसकी सूचना बीमा कम्पनी को दे दी जाय; ताकि सूचना के आधार पर सर्वेक्षण करा कर यह पता लगाया जा सके कि उक्त कृषक के फसल का नुकसान प्रतिशत क्या है? जिसके आधार पर उसे बीमा की राशि उपलब्ध कराने में सुविधा हो। इसके तहत् आवेदन भेजकर या टॉल फ्री नंबर 1800-103-5499 पर कॉल कर या www.iffcotokio.co.in पर ई-मेल कर अथवा एस0एम0एस0 कर कृषक अपने फसल से संबंधित जानकारी बीमा कम्पनी को दे सकते हैं।

 

कार्यशाला में बतलाया गया कि देवघर जिले के किसानों को प्रीमियम राशि के रूप में गेहूँ के लिए 330 रूपया प्रति एकड़, चना के लिए 180 रूपया प्रति एकड़, आलू के लिए 2,142 रूपया प्रति एकड एवं राई-सरसों के लिए 180 रूपया प्रति एकड़ देना होगा। इसके अलावे गेहूँ के लिए 815.43 रूपया प्रति हेक्टेयर, चना के लिए 444.78 रूपया प्रति हेक्टेयर, आलू के लिए 5,292.90 रूपया प्रति हेक्टेयर एवं राई-सरसों के लिए 444.78 रूपया प्रति हेक्टेयर राशि क्षतिपूर्ती हेतु निर्धारित है।

फसल बीमा के प्रति किसानों में आई जागरूकता के विषय में चर्चा करते हुए कहा गया कि इस वर्ष प्रधानमंत्री फसल बीमा के अन्तर्गत लगभग 50 प्रतिशत तक का लक्ष्य प्राप्त कर लिया गया है, परन्तु शत् प्रतिशत लक्ष्य की प्राप्ति हेतु किसानों में और अधिक जागरूकता लाने की आवश्यकता है। ऐसे में हम सभी का दायित्व है कि हम इस संबंध में किसानों को अधिक से अधिक जानकारी देकर फसल बीमा योजना का लाभ लेने हेतु उन्हंे जागरूक करें। वहीं बतलाया गया कि अब कृषकों द्वारा क्रय किये जाने वाले खादों पर मिलने वाली सब्सिडी डी0बी0टी0 के माध्यम से अब सीधे उनके बैंक खाता में जायेगी।

कार्यशाला में जिला सहकारिता पदाधिकारी सुशील कुमार, सहकारिता प्रसार पदाधिकारी सुनील कुमार, काॅपरेटिव सोसाईटी के असिस्टेंट रजिस्ट्रार रूमा झा, आत्मा के उप-परियोजना निदेशक मन्टू कुमार, ईफको टोक्यो जेनरल इंश्योरेन्स कम्पनी के भर्टिकल हेड साकेत सिन्हा, पैक्स अध्ययक्ष आदि उपस्थित थे।