यह लॉकडाउन है छुट्टी नहीं, बेवजह नही घूमें : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन

कोरोना से लड़ने के लिए अधिकारियों के साथ बैठक करते सीएम हेमंत सोरेन
कोरोना से लड़ने के लिए अधिकारियों के साथ बैठक करते सीएम हेमंत सोरेन

रांची। मौजूदा समय में कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए झारखण्ड को लॉकडाउन किया गया है। कोरोना से निपटने के लिए हमें मिलकर अहम भूमिका निभानी है। सभी अपने स्तर से अपना सर्वश्रेष्ठ दें। मामला गंभीर है, इसे गंभीरता से लें। हर दिन एक नई चुनौती के लिए तैयार रहें। आप सभी इस लड़ाई के योद्धा हैं ।आनेवाला तीन-चार सप्ताह महत्वपूर्ण है। किसी तरह की लापरवाही न हो। यह हम मिलकर सुनिश्चित करेंगे। हम चीजों को अनदेखा करेंगे तो मामला बिगड़ सकता है। इसलिए पूरी सावधानी, गंभीरता, संकल्प और जिम्मेदारी से कार्य करते हुए कोरोना से निपटना है। ये बातें मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कही। मुख्यमंत्री सोमवार को मंत्रालय में कोरोना वायरस के संबंध में राज्य के सभी जिला के उपायुक्तों को निदेश दे रहे थे।

लॉक डाउन की प्रासंगिता स्पष्ट करें, होम डिलीवरी को सशक्त करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखण्ड में लॉकडाउन घोषित हो चुका है। लॉक डाउन के पहले दिन बाजार व दुकानें तो बंद हैं। लेकिन लोगों की गतिविधियां नहीं रुकी। सभी जिला के उपायुक्त लोगों को बताएं कि यह छुट्टी नहीं। लोगों को संक्रमण से बचाना है। लोग सड़कों में बेवजह में न घूमें। जरूरी सेवा से जुड़े लोगों की पहचान कर कार्य करें। राशन, दवा, दूध समेत अन्य दैनिक उपयोग की चीज लोगों को उनके घर पर उपलब्ध हो, इसके लिए होम डिलीवरी एवं राशन दुकानों पर सुरक्षा के पुख्ता व्यवस्था करें।