कश्मीर पर अलकायदा की नजर

एक बार फिर से आतंकवादी संगठन अलकायदा ने एक वीडियो जारी करके भारत के शहरों में हमले करने की बात कही है, जिससे कश्मीर में सुरक्षाबलों का ध्यान भटकाया जा सके। आतंकवादी संगठन अलकायदा ने कहा है कि कश्मीर के लिए वो कुछ भी कर सकता है। कश्मीर पर कब्ज़ा करने और भारत में हमले करवाने के लिए अलकायदा ने एक बड़ी साजिश का खुलासा किया है। इसके लिए अलकायदा ने बाकायदा एक वीडियो जारी कर भारत के खिलाफ जहर उगल दिया है। वीडियो में अलकायदा के नंबर दो कमांडर उसामा महमूद ने कहा है कि ‘कश्मीर पर पकड़ बनाने के लिए भारत भले ही 6 लाख सैनिकों का इस्तेमाल कर रहा हो, लेकिन हम भारत के बड़े शहरों में आतंकी हमला कर उनका ध्यान भटका देंगे, इससे हमारी कश्मीर पर पकड़ मजबूत हो जाएगी और हम कश्मीर को हड़प लेंगे।’  अपने इसी वीडियो के जरिए आतंकी महमूद ने भारतीय उपमहाद्वीप के मुसलमानों से कश्मीरियों को समर्थन करने की बात भी कही है। उसका मानना है की इस तरह भारत से कश्मीर पर भारत की पकड़ ढीली पड़ जायेगी। अलकायदा से जुड़े अंसार गजवा तूल-हिंद नामक कश्मीरी संगठन ने भारत के मुसलमानों को जेहाद में शामिल होने की अपील की थी। उसने दावा किया था कि हिंदू लोग सभी मुस्लिमों को भारत से निकालना चाहते हैं। आतंकी महमूद का कहना है कि अब जिहादी आंदोलन को मजबूत बनाने का वक्त आ चुका है।

वीडियो में आतंकी कमांडर उसामा अपने नापाक इरादे जाहिर करते हुए कह रहा है कि यदि कोलकाता, बेंगलुरु, मुंबई और दिल्ली में हमला किया जाता है, तो इससे भारत का ध्यान भटक जाएगा। कुछ इसी तरह का एक वीडियो मंगलवार को ही एक और आतंकी संगठन अल करार ने भी रिलीज कर उसे आईएसआईएस से जुड़े होने की बात कही है। इतना ही नहीं अंसार गजवा तूल-हिंद ने अपने एक संदेश के जरिए भारत की लोकतांत्रिक नीतियों की आलोचना की और मुस्लिमों को कांग्रेस, भाजपा, समाजवादी पार्टी, द्रविड़ मुनेत्र कडगम, तृणमूल कांग्रेस और बसपा से सतर्क रहने की सलाह दी है।

म्यांमार और बांग्लादेश सीमा से लगे भारत के पूर्वोत्तर राज्यों में रोहिंग्या मुसलमानों को देश भर में अलकायदा अपना मोहरा बनाना चाहता था। इसके लिए उसने रोहिंग्यो मुसलमानों को आतंकी बनाने का जिम्मा आतंकी समी हक को सौंपा। हक पिछले चार साल से अलकायदा के लिए काम कर रहा है। समी को सीरिया के आतंकी कैंप में हथियारों का प्रशिक्षण लेने के लिए भेजा। इसके बाद अलकायदा ने उसे भारत में भेजा।

फिर तोड़ा युद्धविराम –

जम्मू-कश्मीर के नियंत्रण रेखा से सटे नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तानी सैनिकों ने आज अग्रिम चौकियों पर छोटे हथियारों से गोलीबारी की। पुलिस ने बताया कि सीमा पार से सुबह लगभग नौ बजे गोलीबारी शुरू हुई जो लगभग एक घंटे तक चली। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि भारत के सैनिकों ने इसका जवाब दिया और दोनों पक्षों के बीच गोलीबारी दस बजे तक जारी रही।  उन्होंने बताया कि इसमें किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर इस वर्ष संघर्ष विराम की कुल 881 घटनाएं हुई हैं जो बीते सात वर्ष में सर्वाधिक हैं। इन घटनाओं में 34 लोगों की जान गई है। अधिकारियों के मुताबिक 10 दिसंबर तक पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का 771 बार उल्लंघन किया। नवंबर माह के अंत तक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर संघर्ष विराम का 110 बार उल्लंघन किया। सीमापार से गोलीबारी की घटनाओं में 30 लोगों की जान गई जिनमें 14 सेना के जवान, 12 आम नागरिक और चार जवान बीएसएफ के थे।