अनोखी कार्यशैली के बदौलत जन-जन में लोकप्रिय हुए एस.डी.ओ.आदित्य रंजन

निरीक्षण के दौरान एसडीओ आदित्य रंजन

हजारीबाग एस.डी.ओ. आदित्य रंजन की प्रारंभिक शिक्षा बोकारो से हुई। बी.आई.टी मेसरा, रांची से इंजनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद आदित्य ने विभिन्न कंपनिओं में नौकरी भी की लेकिन उनका मन वहां नहीं रमा तो यूपीएससी की तैयारी करने लगे और आई.आर.एस निकाला। आदित्य रंजन का मन यहां भी नहीं जमा और स्टडी लीव लेकर आई.ए.एस. की तैयारी में जुट गये। वर्ष 2015 यूपीएससी परीक्षा में उन्होंने 99 वां रैंक प्राप्त किया और आई.आर.एस. की नौकरी से इस्तीफा देकर आई.एस.एस. की नौकरी ज्वाइन की। उनका पहला पदस्थापन संतालपरगना के देवघर जिले में बतौर प्रशिक्षु आई.ए.एस. के रूप में हुई। अपने साल – भर के कार्यकाल में आदित्य रंजन देवघर की जनता के बीच काफी लोकप्रिय हुए। देवघर के लोग बताते हैं कि आदित्य रंजन का लगाव युवाओं से अधिक है, वे शिक्षा और सामाजिक कार्यों के प्रति हमेशा जागरूक रहते थे। करीब साल भर देवघर में रहने के बाद उनका पदस्थापन बतौर एस.डी.ओ. हजारीबाग हुआ…अपने अनोखी कार्यशैली के बदौलत यहां पर भी वे जन –जन के लोकप्रिय बन गये। देवघर समाचार की कोशिश रहती है कि समाज में अच्छे कार्य करने वाले को जनमानस के बीच लायें। इसी को केन्द्र में रखकर लोगों के बीच तेजी से उभरते हुए आई.ए. एस. आदित्य रंजन पर देवघर समाचार डॉट कॉम टीम ने विशेष रिपोर्ट तैयार की ताकि निराशा में डूब चुके युवा उनसे प्रेरित हो सके।

एसडीओ आदित्य रजन पर देवघर समाचार की विशेष रिपोर्ट –

आदित्य रंजन ने प्रशिक्षु आई.ए.एस. के तौर पर देवघर में योगदान करने के कुछ महीनों बाद ही लोकप्रियता हासिल करना शुरू कर दिया। विद्यालय में जाकर छात्रों से संवाद करना, औचक निरीक्षण कर अधिकारियों का नींद हराम करना उनका नियमित कार्य था। कोंचिग सेंटरों में जाकर वे छात्रों को प्रोत्साहित करते और सफलता का टिप्स देते। यही कारण है कि आज भी देवघर के लोग उन्हें याद करते थकते नहीं हैं। देवघर में प्रशिक्षण कार्य पूरा होने के बाद उनका पदस्थापन हजारीबाग हुआ। हजारीबाग पहुंचते ही उन्होंने कई मामलों का पर्दाफाश किया। आलंब यह है कि आज आदित्य रंजन का नाम सुनते ही अपराधियों की रूह कांप उठती है। आम जनता का कहना है कि जबसे एसडीओ साहब हजारीबाग आए हैं तबसे अपराधियों पर लगाम लगा है, जिस कारण लोग राहत के सांस ले रहे हैं।

हजारीबाग में आदित्य रंजन के द्वारा की गई कुछ महत्वपूर्ण कार्रवाई को हम प्रकाशित कर रहे हैं –

सार्वजनिक स्थल पर धूम्रपान करने वालों पर चला प्रशासन का डंडा…

हजारीबाग शहर में सार्वजनिक स्थल, चौक-चौराहों पर खुलेआम धूम्रपान करनेवालों पर आफत आयी है। अब इस चक्कर में खुलेआम सिगरेट बेचनेवाले दुकानदार भी नपने लगे हैं। सदर एसडीओ आदित्य रंजन ने खुलेआम सिगरेट पीनेवाले के विरूद्ध ऐसा अभियान चलाया है कि अब धूम्रपान करनेवाले एसडीओ के नाम सुनते ही भाग खड़े हो रहे हैं। सदर एसडीओ द्वारा छापेमारी अभियान में 30 दुकानदारों पर कोरपा एक्ट के तहत कार्रवाई की गई। एक्ट के उल्लंघन के आरोप में दर्जनों दुकानदारों से  200 से 9200 रूपया तक जुर्माना वसूला गया। एसडीओ ने 34 दुकानदारों का खुद चालान काटा। इस दौरान 60 हजार रूपये से अधिक वसूली की गई। तीन दुकानदार हिरासत में लिए गये हैं। सरकारी बस पड़ाव, झंडा चौक एवं इंद्रपुरी चौक सहित विभिन्न दुकानों में दो घंटे तक छापामारी अभियान चला। इस दौरान खुलेआम सिगरेट बेचने वाले तथा दुकानों में वैधानिक चेतावनी वाले बोर्ड नहीं लगाने पर दुकानदारों से जुर्माना लगाया गया।

सदर एसडीओ आदित्य रंजन ने सार्वजनिक स्थलों पर धूम्रपान करनेवाले और इसकी बिक्री करनेवाले दुकानदारों को चेतावनी दी है कि सार्वजनिक स्थानों पर  धूम्रपान करना कोरपा एक्ट का उल्लंघन  है। ऐसे लोगों पर कार्रवाई होगी। उन्होंने दुकानदारों से अपील की है कि वे खुलेआम सिगरेट नहीं बेचें। सिगरेट के दुष्प्रभावों का वैधानिक चेतावनी का बोर्ड लगाए। पकड़ेजाने पर उसके विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी।

आईआरबी के परीक्षा में दूसरे के बदले परीक्षा में बैठने वाले आरोपी धराये।

इंडिया रिजर्व बटालियन (आई.आर.बी.) परीक्षा में परीक्षार्थियों के बदले दूसरे लड़के के द्वारा परीक्षा लिखने वाले चार आरोपी को  गिरफ्तार किया गया। गौरतलब है कि आये दिन कई परीक्षाओं में परीक्षार्थियों के बदले दूसरे लड़के परीक्षा देने की खबर आती है। ऐसे आरोपियों को पकड़कर जेल में भेजने का काम किया है सदर एसडीओ आदित्य रंजन ने। एसडीओ ने न केवल इन चार आरोपियों को गिरफ्तार किया बल्कि इनके माध्यम से जाल बिछा कर मुख्य सरगना तक पहुंचने में बड़ी सफलता हासिल की।

घूस के नाम पर बिछाए जाल में फंसा बिहार के उत्पाद विभाग का सिपाही अभय यादव

आईआरबी परीक्षा पास कराने का ठेका लेने वाले गिरोह का एक और सदस्य अभय यादव पुलिस के बिछाए जाल में फंस गया। बिहार के उत्पाद विभाग में सिपाही अभय यादव तैनात है। वह दूसरे की जगह परीक्षा देते पकड़े गए अभय यादव का भाई है। एसडीओ आदित्य रंजन ने गिरफ्तार युवकों से अभय को फोन करवाया था। कहा था कि 80 हजार के घूस देने पर छोड.दिया जाएगा। इन युवकों ने अभय को फोन किया। रात में ही 80 हजार रूपये लेकर हजारीबाग आया। आते ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। जबकि साथ आये व्यक्ति को छोड़ दिया गया। अजय ने पुलिस को बताया कि गिरोह का मुखिया सुल्तानगंज निवासी विनोद यादव है. वह एक छात्र को पास कराने के लिए पांच से छह लाख में कॉन्ट्रेक्ट लेता है। जिन्हें परीक्षा में बैठाया जाता है उसे 50 हजार रूपये मिलते हैं। अभय का काम छात्र को फंसाकर विनोद यादव तक पहुंचाना है। जिसके लिए उसे 50 हजार रूपये दिये जाते हैं।

एसडीओ आदित्य रंजन

सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, प्रशासन की ने की बड़ी कार्रवाई

एस.डी.एम. आदित्य रंजन ने हजारीबाग स्थित सरकारी बस स्टैंड के पास देवी रेस्ट हाऊस में छापमारी कर वहां चल रहे सेक्स रैकेट का खुलासा किया। छापेमारी में होटल में रगरैलियां मनाते युवक – युवतियों के तीन जोड़े भी पकड़े गये, जबकि रेस्ट हाऊस से कई आपत्तिजनक सामान भी बरामद हुए। एसडीएम ने बिना किसी को भनक लगे रेस्ट हाउस में छापेमारी की। एसडीएम के निर्देश पर होटल संचालक गुरदीप कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया है। साथ ही कार्रवाई के दौरान मो.इरफान निमियाघाट, बबलू कुमार  जलमा एवं मिहीलाल बगोदर को हिरासत में  लिया गया है। एसडीओ की कार्रवाई के बाद होटल तो होटल आसपास के दुकानों में भी हड़कंप मच गया। देखते ही देखते दुकाने भी बंद होने लगी। हांलाकि कार्रवाई होटल तक ही सीमित रही। दंडाधिकारी कुमुद झा ने बताया कि होटल संचालक सहित पकड़े गए लोगों पर प्राथमिकी दर्ज करने की कवायद की जा रही है। वही पकड़े गए तीनों जोड़ो को सदर थाने हवाले कर दिया गया है। इनमें महिलाओं को महिला थाना भेजा गया है।

हुरहुरू में छापा, 500 लीटर महुआ शराब जब्त

एसडीओ आदित्य रंजन के नेतृत्व में सदर थाना क्षेत्र के हुरहुरू मुहल्ले के एक घर में पुलिस छापेमारी की, साथ मुहल्ला  कारू साव के आवास पर छापामारी में 500 लीटर महुआ शराब व भारी मात्रा में जावा महुआ बरामद किया गया। इस दौरान घटना स्थल से एक व्यक्ति को हिरासत में लेकर पुलिस के हवाले  कर दिया गया।

अवैध बालू उत्खनन के अड्डे पर एसडीओ ने मारा छापा, जेसीबी ट्रक सहित आठ लोग हिरासत में।

हजारीबाग स्थित डाडी प्रखंडमें गिद्दी बालू माइनिंग एरिया में सदर एसडीओ आदित्य रंजन ने छापेमारी की।  कार्यपालक  दंडाधिकारी कुमुद झा के साथ किये गये छापेमारी के बाद बालू माफियाओं में हड़कंप मच गया। माइनिंग  एरिया से एसडीओ ने एक जेसीबी, तीन ट्रक एक बेलोरो और आठ बालू माफियाओं को हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए लोगों से पूछताछ की जा रही है।

भारी मात्रा में ड्राइविंग लाइसेंस व परिमिट मिले..

डिस्टिक बोर्ड चौक चांद कोठी मार्केट स्थित एक दुकान में प्रशासन की ओर से छापामारी की गई। छापामारी में दुकान से भारी मात्रा में ड्राइविंग लाइसेंस वाहनों के परमिट ,टैक्स टोकन सहित कई कागजात जब्त किये गये हैं। दुकान में अवैध तरीके से वाहनों के कागजात बनाये जाते थे, छापेमारी सदर एसडीओ आदित्य रंजन के नेतृत्व मे हुई। छापेमारी में लैपटॉप समेत नकदी, रजिस्टर भी जब्त किये गये।

एसडीओ आदित्य रंजन  ने बताया कि एक साल से गैरकानूनी तरीके से वाहनों के कागजात बनाने का काम चल रहा था। दुकान के संचालक जंबू जैन वाहन मालिकों से निर्धारित शुल्क से कई गुणा अधिक राशि लेकर वाहनों के कागजात बनाते थे। बिना लाइसेंस के वाहनों में स्पीड कंट्रोलर की मशीनें बेचने का काम भी किया जाता था। प्रशासन ने दुकान को सील कर दी है।

सेट्रल जेल में पुलिस का छापा

जयप्रकाश नारायण केन्द्रीय कारागार, हजारीबाग में जिला प्रशासन ने कड़ी कार्रवाई की है। सदर एसडीओ आदित्य रंजन के नेतृत्व में जेल के विभिन्न वार्डो को खंगाला गया, तलाशी में मोबाईल फोन, चार्जर, सिम कार्ड बरामदी की गई। छापेमारी के दौरान चाईबासा से लाये गये सुनिल सिन्हा के पास से मोबाईल फोन व तीन सिम कार्ड मिले।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *